कोरोना काल और लॉकडाउन के दौरान मुंबई में बड़े पैमाने पर किया जा रहा है अवैध निर्माण कार्य

कोरोना काल और लॉकडाउन के दौरान मुंबई में बड़े पैमाने पर किया जा रहा है अवैध निर्माण कार्य

जनरल अरूण कुमार वैद्य मार्ग खडक पाढ़ा में म्हाडा की जमीन पर बड़े पैमाने पर किया गया है अवैध निर्माण

मनपा के भ्रष्ट अधिकारी दत्तात्रय भोये असुर तो म्हाडा के भ्रष्ट अधिकारी राजन पाटिल बने भष्मासुर ?

मुंबई। एक तरफ जहां पूरा देश कोरोना महामारी से लड़ाई लड़ रहा है वहीं दूसरी तरफ मुंबई में लॉकडाउन के दौरान भू-माफियाओं द्वारा बड़े पैमाने पर अवैध निर्माण किया गया है और किया जा रहा है। इन अवैध निर्माणों पर कई सामाजिक संगठनों ने मनपा प्रशासन, म्हाडा प्रशासन व महाराष्ट्र सरकार को लिखित शिकायत दर्ज करायी है। परंतु यह देश का बहुत बड़ा दुर्भाग्य है कि गरीबों के खिलाफ अगर एक शिकायत हो जाये तो वो सलाखों के अंदर नजर आता है परंतु जिसके पास पैसा और पावर है वह कानून के शिकंजों से दूर नजर आता है। अब सवाल यह है कि मुंबई महानगर पालिका का काम है लोगों की जन सुविधाओं का ख्याल रखना व विकास कार्यों पर ध्यान देना, परन्तु मुंबई मनपा के भ्रष्ट अधिकारी इन जनहित मुद्दों को दरकिनार करते हुए भ्रष्टाचार की चाशनी में इस कदर डूब चुके हैं कि उन्हें जनता जनार्दन की कोई फिक्र नहीं है। इनके इन्हीं भ्रष्टाचारी रवैये के कारण बिल्डर व भूमाफिया अवैध बिल्डिगें और चाले बनाकर लोगों के जान माल के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। अभी भी ये म्हाडा एवं मनपा के भ्रष्ट अधिकारी मुंबई में हुए हादसों से सबक नहीं ले पा रहे हैं। मनपा में व्याप्त भ्रष्टाचार के कारण भूमाफियाओं की इतनी हिम्मत हो गई है कि वे म्हाडा एवं मनपा से किसी भी प्रकार की कोई अनुमति लिये बगैर अवैध निर्माण कर देते हैं। अगर कोई इसकी शिकायत म्हाडा एवं मनपा अधिकारियों और पुलिस को करता है तो उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई करना तो दूर कोई उस शिकायत को देखता तक नहीं है। लोगों का कहना है कि भू-माफियाओं द्ववारा किए गए उक्त अवैध निर्माणों पर वहां के स्थानीय सांसद, विधायक, व नगरसेवकों का संरक्षण प्राप्त रहता है। या यूूूं कहें कि सभी को नजराने के रूप में हिस्सा या भू-माफियाओं द्वारा पहले से ही चढ़ावा चढ़ा दिया जाता है। जबकि कभी-कभी ऐसे मामलों में स्थानीय विधायक को पता नहीं रहता है और उनका कथित पीए उनके नाम का नाजायज फायदा उठाकर अवैध निर्माणों को अंजाम देता है। ऐसा ही एक मामला इस समय पी /उत्तर प्रभाग के मालाड पूर्व दिंडोशी विधानसभा क्षेत्र के फिल्म सिटी रोड स्थित सर्वे नंबर 239/I व सीटीएस नंबर 827/B खडक पाढ़ा में बड़े पैमाने पर भू-माफियाओं द्वारा किए गए अवैध निर्माणों को लेकर चर्चा गर्म है। जिस म्हाडा की जमीन पर मात्र 180 रूम सिर्फ लीगल थे जबकि दो से तीन साल में अब म्हाडा की जमीन पर अवैध रूप से ४६५ रूम बनाये गये हैं और अभी बनाये जाने बाकी हैं। शिकायतकर्ता के अनुसार वर्तमान समय में भू-माफिया विजय चौहाण उर्फ मारवाड़ी, शंकर केशरी , राजेश व कल्याणी बाई इन अवैध निर्माणकर्ताओं ने 35 रूम बनाये है। सूत्रों के अनुसार यह सभी अवैध निर्माण स्थानीय विधायक के कथित पीए जगदीश श्रीमाली के मार्गदर्शन में बनाए गए हैं। आश्चर्य इस बात की है कि इन सभी अवैधनिर्माणों की शिकायत मनपा पी उत्तर विभाग के प्रभाग समिति अध्यक्ष व भाजपा पक्ष नेता विनोद मिश्रा तथा भ्रष्टाचार निवारक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे बी सिंह द्वारा शिकायत किए जाने के बावजूद अभी तक उन अवैधनिर्माणों पर कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है । गोरेगांव म्हाडा डिविजन के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर राजन पाटिल और मनपा पी /उत्तर विभागय(B/F deppt) के असिस्टेंट इंजीनियर दत्तात्रय भोये और मनपा पी/उत्तर विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर संजोग कबरे ये सभी अधिकारी अवैध निर्माण करने वाले लोगों से या तो नजराना के तौर पर मोटी रकम लिए हैं या इन भू-माफियाओं से इतने भयभीत हैं कि उक्त अवैधनिर्माणों पर कोई भी कार्रवाई कर रहे हैं। अब सवाल यह है कि जब सरकार और मनपा प्रशासन में शिवसेना की सत्ता हो और उन्हीं के लोग अवैधनिर्माणों में लिप्त हों तो क्या इन सभी अवैधनिर्माणों पर कार्रवाई होगी ? जबकि इसके पहले भी जनरल अरूण कुमार वैद्य मार्ग स्थिति ज्योति बिल्डिंग के बगल में श्रीमाली के देख रेख में 35 से 40 रूम अवैध रूप से बनाये गए हैं। परंतु शिकायत के बावजूद अभी तक कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है।
Print Friendly, PDF & Email

Shyamji Mishra Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Jai Mata di

Mon Oct 26 , 2020
Jai Mata Di